Wednesday, 3 June 2015

राम का मंदिर

राम का मंदिर, इतिहास में सुधार है


कर्म की परिकाष्ठा हैं, जीवन का आधार हैं। 
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।। 
जन-जन की ये पुकार है, हिंदुत्व का अधिकार है। 
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।। 
झूठ है न ये कोई फरेब है, न दलालियों का व्यापार है। 
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।। 
मर्यादा की नींव है, धर्म का विस्तार है।
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।। 
सत्य की जीत का प्रतीक है, असत्य की हार है।  
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।। 
दासता का उद्धार है, आतातायीयों पर प्रथम वार है।
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।।
पौरुषता की प्रेरणा है, व्यक्तित्व का निखार है।  
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।। 
अखंड सूर्य का प्रकाश है, नवीन चेतना का उदगार है।  
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।। 
आतंकियों पर आघात है, घुसपैठियों पर प्रहार है।
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।। 
पुरुषत्व की शक्ति है, ममत्व का दुलार है।
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।।
सुसंस्कृति का पुनरुत्थान है, असभ्यता का निस्तार है।
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।।
नैतिकता का मिसाल है, ओजस्वता का संचार है।
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।।
आस्था और विश्वास का यही कर्णधार है
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।।
सत्यता को देखो कब से न्याय का इंतजार है। 
राम का मंदिर, मंदिर ही नहीं, इतिहास में सुधार है।।
_________________________________________________________


गोकुल कुमार पटेल

(इन रचनाओ पर आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए मार्गदर्शक बन सकती है, आप की प्रतिक्रिया के इंतजार में l)





Post a Comment