Monday, 7 July 2014

हमारा धर्म हमारा भगवान (हिन्दू संस्कृति बचाने की एक कोशिश) – 3

हमारा धर्म हमारा भगवान (हिन्दू संस्कृति बचाने की एक कोशिश) – 3


  किसी को भी देखकर हमारे मन में जो प्रतिक्रिया होती है, उसे ही भावना कहते है। और भावना की बिशेषता ये होती है  कि हमारे लाख छिपाने की कोशिश करने  के वावजूद भी सत्यता चेहरे पर झलक ही जाती है। यह प्रतिक्रिया धर्म  या जाति बिशेष न होकर सभी प्राणियों के लिए समान रूप से होता है। जीवन में सभी भावनाओं का महत्त्वपूर्ण स्थान होता  है।  लेकिन जो हमारे नैतिक मूल्यों में, व्यवहार में वृद्धि करता है वो है आदर की भावना, सम्मान की भावना इसीलिए हमें बचपन से सिखाया जाता हैं कि सभी का आदर करो, सभी को उचित सम्मान दो। हिन्दू धर्म में आदर-सम्मान की सर्वोच्च शिखर पर जो विराजमान है उस अलौकिक शक्ति को परमब्रम्हा परमेश्वर मानकर उसके प्रतीकात्मक स्वरुप के लिए उसे भिन्न-भिन्न प्रकार के धातुओं एवं पत्थरों से विभिन्न प्रकार का रूप देकर, मूर्ति बनाकर, पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ पूजा की जाती है।  उनके पूजा में भी सर्वथा पवित्रता बरती जाती है और इसीलिए जहाँ तक संभव हो उनके पूजा के लिए अलग कक्ष का निर्माण भी करवाया जाता है।

पहले सार्वजनिक तौर पर भी गांवों व शहरों में एक-एक ही मंदिर हुआ करता था, और उसके पूजा से लेकर साफ-सफाई पर भी विशेष ध्यान दिया जाता था। पर धीरे-धीरे इंसानों की धार्मिक प्रवृति बढ़ने लगी और एक दुसरे से अपने आपको श्रेष्ट दिखाने की कोशिश में जगह - जगह अलग - अलग तरह के मंदिरों का निर्माण किया जाने लगा, जिसके फलस्वरूप मंदिरों की संख्या वृद्धि होने के साथ- साथ वहां पवित्रता का अभाव हो रहा है जिसको हम पवित्र मानते है, उसके आसपास का जगह गन्दगी से भरा रहता है लोग आते जाते उसी के आड़ में गुटखा खा कर थूकने के साथ ही साथ  शौच करते नजर आते है।

  आधुनिकता के इस दौर में और अधिक परिवर्तन हुये हुए और पत्थरों के मूर्तियों का स्थान विभिन्न प्रकार के प्लास्टिक, चीनी मिट्टी, कांच के सुनहरे मूर्तियों एवं विभिन्न आकार के सुनहरे पोस्टरों ने ले लिया । जिसको हम पवित्र और पूजनीय मानते थे उसको पूजा कक्ष और मंदिरों से निकाल कर सजावटी सामान की तरह घर के सभी हिस्सों में सजाया जाने लगा है। अब तो स्थितियां यह हो गई है कि इन पोस्टर रैपर का  प्रचलन व्यापारिक रूप लेकर जीवन के हर एक पहलू से जुड़ गया है। चावल दाल की बोरी हो या मशालों के पैकेट, खाने पीने की हर वस्तुओं से लेकर गंजी, जांघिया, जूता, चप्पल जैसे पहनने तक का कोई परिधान भी भगवान के चित्रों से अछूता  नहीं रह गया है। अब तो स्थितियां यह हो गई है कि भगवान के चित्र के ये पोस्टर्स व रैपर कूड़े के ढेरों में पड़े मिलते है तो कहीं-कहीं गन्दी नालियों में तैरते नजर आते है। जिसके फलस्वरूप हम आदर व सम्मान की परिभाषा को भूल रहे है और हम अपने ही भगवान का अनादर करने लगे है ।


  अशिष्टता की हद तो तब और पार हो जाती है जब कुछ बेशर्म लोग मूर्खतापूर्वक सीढ़ियों एवं घर की बाहरी दीवारों को कुड़ें-कचड़ें, थूक और शौच से बचाने के लिए " यहाँ पेशाब करना मना है " लिखने के साथ ही साथ भगवान का चित्र वाला टाइल्स  या चौखटा दीवार पर लगा देते है। उन बेशर्मों को शर्म नहीं आती  है पर हिंदुत्व तो तब शर्मसार होती है जब ये सब देखकर भी लोग मौन रहते हुए उसी स्थान पर कचरा फेंकते है, थूकते है, शौच करते  है। अब तो ऐसा लगता है कि बहुतायत हिन्दू आदर-सम्मान को भूल गए है, धर्म की मर्यादा को भूल गए है, भगवान को भूल गए है। और सत्यता को जाने बगैर अन्धविश्वास  के पीछे  दौड़ने लगे है, कही कोई पत्थर निकला तो भगवान समझ  कर पूजा करने लगे, कही पेड़  की गांठ  एवं शाखाओं से कोई आकृति बन गया तो पूजा करेंगें। कहीं लोग भगवान को लेकर भीख मांग रहे है तो कहीं भगवान के बिभिन्न प्रकार के यन्त्र बनाकर कवच बनाकर बेचा जा रहा  है। कोई कला  के नाम पर  टी. वी., सिनेमा एवं वास्तविक जीवन में बहरूपिया (भगवान जैसा वेशभूषा पहनने वाला) बनकर हमारे भगवान का मजाक उड़ा रहे है और हम मजे के साथ उसका आनंद ले रहे है । तो कोई साधु बन, गुरु बन चमत्कार दिखाकर लोगों को बेवकूफ बना कर अपने आपको भगवान का अवतार बतलाकर अपनी पूजा करवा रहा है । और हम सब मौन होकर अंध भक्त बनकर उनकी पूजा कर रहे है ।  यह कौन सी  हिन्दू विचारधारा है, यह कैसा हिंदुत्ववाद है जो भगवान की उपेक्षा कर इंसान की पूजा करते और अपने आपको हिन्दू कहते हुए हमें शर्म भी नहीं आ रही है।

·                 क्या हम भगवान के चित्र वाले इस तरह के पोस्टर रैपर के छपने का विरोध नहीं कर सकते है?
·                 विरोध न सही क्या हम इस तरह के पोस्टर रैपर का उपयोग करना बंद नहीं कर सकते है।
·            यदि भगवान का पोस्टर रैपर या मूर्तियों खरीदते भी है तो उसका उपयोग उचित स्थान में करें उसे फाड़कर यत्र तत्र या कूड़े कचरों के साथ तो कदापि न फेकें।
·            कम से कम शुरूआती दौर इनका उपयोग सजावटी सामान की तरह न  करके आवश्कतानुसार क्या कम  नहीं कर सकते है।
·             क्या सीढ़ियों एवं निचली दीवारों पर भगवान का चित्र वाला टाइल्स या चौखटा  लगाना बंद नहीं  कर सकते है ।
·                 क्या इस तरह से जगह - जगह मंदिर निर्माण को बंद नहीं  किया जा  सकता है ।

        उपरोक्त बातें शायद आपको कडुआ लगे।  और आप मुझे हिन्दू विरोधी समझे इसके लिए मैं माफ़ी चाहता हूँ। और आपको यह बता देना चाहता हूँ कि मेरी लड़ाई हिन्दू या हिंदुत्व् वादी विचारधारा  से नहीं है और मैं न ही धर्म को लेकर कोई विवाद करना चाहता हूँ क्योकि मैं भी एक हिन्दू हूँ, और मुझे मेरे हिन्दू होने पर गर्व भी होता है , मैं तो उस व्यवस्था से लड़ना चाहता हूँ, उन तरीकों को बदलने की कोशिश करना चाहता हूँ जो हमारे संस्कृति को रौंद रहा है, धूमिल कर रहा है, मैं आप लोगों को यह बताने की कोशिश कर रहा हूँ कि ईश्वर जिसकी हम पूजा करते है जिसका सम्मान करते है उसका न तो हम ही मजाक उड़ाये और न ही किसी को ऐसा करने दे। अपने अंदर की भावनाओं को जगाये और हमारे भगवान को उचित सम्मान के साथ-साथ उचित स्थान प्रदान करने में सहयोग प्रदान करें, जिससे हमारे हिन्दू संस्कृति को सही दिशा दिया जा सके। हिन्दू संस्कृति को बचाये रखा जा सकें। ऐसी ही एक कोशिश में........


गोकुल कुमार पटेल


(इन रचनाओ पर आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए मार्गदर्शक बन सकती है, आप की प्रतिक्रिया के इंतजार में l)


Thursday, 12 June 2014

हमारा धर्म हमारा भगवान (हिन्दू संस्कृति बचाने की एक कोशिश) – 2

हमारा धर्म हमारा भगवान (हिन्दू संस्कृति बचाने की एक कोशिश) – 2




            हर प्राणी अपने अस्तित्व को बचाये रखने की कोशिश करता है चाहे उसके लिए उन्हें कोई भी कीमत चुकानी पड़े और तभी उसका अस्तित्व बचा रह सकता है। इसी सिद्धांतों को इंसानों ने जाना और विभिन्न स्तर पर इसका प्रयोगात्मक ढंग से प्रयोग भी किया और करता भी आ रहा है। सभी धर्म के लोगों ने भी इसी सिद्धांतों के आधार पर अपने संस्कृति और धर्म को बचाने के लिए समय-समय पर विभिन्न उत्सवों और कार्यक्रमों के द्वारा इसका प्रचार प्रसार किया। लेकिन कहते है न हर एक कार्य की एक सीमा भी होती है,  हिन्दू धर्म को छोड़कर सभी संप्रदाय वालों ने उत्सवों और कार्यक्रमों के द्वारा प्रचार प्रसार की सीमा को जाना और उस पर नियंत्रण रखा परन्तु हिन्दुओं में यह तरीका संस्कृति और धर्म का प्रचार प्रसार न रहकर दिखावे में तबदील हो गया। हिन्दू अपने संस्कृति और धर्म को भूलकर सिर्फ उत्सवों और कार्यक्रमों पर जोर देने लगे। जिसके फलस्वरूप ही धीरे- धीरे हिन्दू संस्कृति और धर्म  का पतन हो रहा है। हजारो, करोड़ों रुपये का चंदा एकत्र कर गणेश पूजा, दुर्गा पूजा विश्व्कर्मा पूजा जैसे विभिन्न प्रकार के उत्सव का आयोजन करते है जैसे : -

विवरण
निजी स्तर पर मूर्ति पूजा
सार्वजनिक स्तर पर मूर्ति पूजा
निम्न स्तर
मध्यम स्तर
उच्च स्तर
निम्न स्तर
मध्यम स्तर
उच्च स्तर
मूर्ति
500
1000
2100
2500
10000
50000
पंडाल 
0
0
1000
10000
750000
210000
प्रकाश सजावट
200
1000
5000
3000
211000
500000
फूलों की सजावट 
200
1000
2000
1500
20000
65000
पुरोहित 
501
1111
5111
1100
11111
51000
प्रिंटिंग (रसीद, बैनर आदि)
0
0
1000
1000
30000
50000
बाजा व मनोरंजन
2000
3000
5000
3500
50000
200000
कीर्तन मंडली
1000
2500
50000
5000
105000
7500000
शोभायात्रा (विसर्जन)
500
2000
10000
5000
25000
200000
प्रसाद 
1000
5000
20000
7000
98000
500000
अन्य विविध
500
5000
10000
5000
51500
1000000
कुल योग 
6401
21611
111211
44600
1361611
10326000
                                                                                                               
            ये आंकलन तो एक गांव का, एक शहर का सिर्फ एक पंडाल का खर्च है।  न जाने इतने कितने ही गांव, शहर है जहाँ कितने सारे ही पंडाल लगते है और साल भर में  कितने सारे देवी देवताओं की पूजा होती है तो सोचिये कितने रुपये खर्च होते होंगें। पर करोड़ों रुपये खर्च करने के बाद भी यह उत्सव यह कार्यक्रम सिर्फ धरा का धरा ही रह जाता है क्योकि यह सारा  उत्सव और  कार्यक्रम सिर्फ क्षणिक होता है कार्यक्रम के दिनों  को छोड़कर यह किसी के मन में भी स्थाई रूप से छाप नहीं छोड़ पाता है। क्योकि लोग वहां पवित्र मन से जाते ही नहीं है। गरीब प्रसाद रूपी भोजन ग्रहण करने जाता है, युवा वर्ग आँखों और मन रूपी वासना की तृप्ति के लिए और उम्र दराज लोग अपना व अपने परिवार  के मनोरंजन के लिए पंडाल में उपस्थित होते है। यहाँ एक बात बता देना तर्कसंगत होगा की धर्म व संस्कृति मनोरंजन के लिए नहीं होता है वरन यह तो ईश्वर के प्रति हमारी आस्था और विश्वास को सृदृण करने के साथ ही साथ हमारी संस्कृति को बचाये रखना होता है। मैं यह नहीं कहता हूँ की सभी लोगों की मानसिकता यही रहती है। कुछ लोग जरूर होंगे जो शांति के तलाश में जाते होंगे पर मुझे नहीं लगता की उनको शांति मिलती भी होगी क्योकि इतना शोर-ग़ुल में शांति की तलाश करना कोरी कल्पना ही लगती है। मूर्ति स्थापन से लेकर विसर्जन तक अन्य लोगों के साथ ही साथ आयोजक भी पूजा स्थल में ही शराब पीकर, अश्लील गाने बजाकर अश्लील नृत्य करते रहते है। इसके साथ ही वे वहां आये हुए लड़कियों पर कटाक्ष करने से भी नहीं चूकते है। और हम हाथ पर हाथ रख मौन धारण किये रहते है। तब हमारा ध्यान हमारे कार्यक्रमों से होने वाले खाद्यान्नों की बर्बादी, प्रदूषणों (ध्वनि, वायु, जल ) पर कहाँ से जा पायेगा। 




           
           इसका मतलब  यह  नहीं है की ऐसे उत्सव ऐसे कार्यक्रम बंद कर देने चाहिए या  नहीं होने चाहिए।  होने चाहिए जरूर होने चाहिए पर सभी तरह के बरबादियों एवं प्रदूषणों को रोकते हुए क्योकि इन कार्यक्रमों से कुछ न सही कम से कम लोगों के मन में कुछ समय के लिए एकता का सूत्रपात तो होता हैं। मेरे कहने का तात्पर्य तो यह की इस उत्सव, कार्यक्रमों में होने वाले खर्चों में कुछ कटौती करने से है। जिससे हमारे धर्म व संस्कृति  को बचाने के लिए कुछ किया जा सकें,  प्राकृतिक, सांस्कृतिक एवं इतिहासिक धरोहरों को संरक्षित करने के लिए  कुछ किया जा सकें और कुछ नहीं तो अपने स्तर पर सामाजिक विकास के कुछ कार्य पुस्तकालय की स्थापना, पुस्तकों एवं धार्मिक पुस्तकों का वितरण, जरुरत मंदों को उचित साधन उपलव्ध कराना, पीने के लिए प्याऊ का निर्माण, प्रशिक्षण केंद्र, वृक्षारोपण आदि जैसे कार्य किया जा सकें।  याद रखें जिस दिन से हम अपने कार्यक्रमों के खर्चों में से १०% प्रतिशत की बचत कर उनका सदुपयोग करना सीख जायेंगें उस दिन से विकास का नया अध्याय शुरू हो जायेगा। हमारा समाज, हमारा गांव और हमारा देश विकास के राह पर एक सुदृण्ड परिभाषा बन जाएगी।  तो आइये  आज से ही हम संकल्प ले कि धर्म व संस्कृति पर होने वाले फिजूल खर्चों को रोक कर उनका उपयोग सामाजिक विकास के कार्यों के लिए करेंगें।  एक बात याद रखें हमने धर्म व संस्कृति को बचाने के नया मंदिर निर्माण करने की बात नहीं की है उसके स्थान पर हम यथासंभव  प्राचीन मंदिरों को संरक्षित करने के उपाय कर सकते है।

उपरोक्त बातें शायद आपको कडुआ लगे।  और आप मुझे हिन्दू विरोधी समझे इसके लिए मैं माफ़ी चाहता हूँ।  और आपको यह बता देना चाहता हूँ कि मेरी लड़ाई हिन्दू या हिंदुत्व् वादी विचारधारा  से नहीं है और मैं न ही धर्म को लेकर कोई विवाद करना चाहता हूँ क्योकि मैं भी एक हिन्दू हूँ, और मुझे मेरे हिन्दू होने पर गर्व भी होता है , मैं तो उस व्यवस्था से लड़ना चाहता हूँ, उन तरीकों को बदलने की कोशिश करना चाहता हूँ जो हमारे संस्कृति को रौंद रहा है, धूमिल कर रहा है, मैं आप लोगों को यह बताने की कोशिश कर रहा हूँ कि ईश्वर जिसकी हम पूजा करते है जिसका सम्मान करते है उसका न तो हम ही मजाक उड़ाये और न ही किसी को ऐसा करने दे। अपने अंदर की भावनाओं को जगाये और हमारे भगवान को उचित सम्मान के साथ-साथ उचित स्थान प्रदान करने में सहयोग प्रदान करें, जिससे हमारे हिन्दू संस्कृति को सही दिशा दिया जा सके। हिन्दू संस्कृति को बचाये रखा जा सकें। ऐसी ही एक कोशिश में........


 (इन रचनाओ पर आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए मार्गदर्शक बन सकती है, आप की प्रतिक्रिया के इंतजार में l)


आपका

गोकुल कुमार पटेल

Monday, 12 May 2014

जीवन ज्योति बुला रही है

जीवन ज्योति बुला रही है

















जीवन ज्योति बुला रही है, जीवन ज्योति बुला रही है।
मन के अंधकार को दूर कर, ज्ञान की रौशनी फैला रही है ।।

लड़ रहा है हर कोई बस तेरे और मेरे में,
कैद हुआ है हर कोई स्वार्थ के घेरे में। 
तोड़ कर जंजीरों कोss, तोड़ कर जंजीरों को,
मन में निःस्वार्थ भावना जगा रही है। 
जीवन ज्योति …………………. रौशनी फैला रही है।।

बढ़ गया है भ्रष्टाचार यहाँss
बढ़ गया है अत्याचार यहाँss
रो रही है जनता सारीss
नौजवान बेरोजगार यहाँss
रोकने वाला कोई नहीं, चुप कराने वाला कोई नहीं ।।2।।
ऐसे में बन कर ढाल तेरीss
मन को हौसला दिला रही है। 
जीवन ज्योति …………………. रौशनी फैला रही है।।

कोई लूटा है राजनीति के आड़ मेंs
कोई लूटा है धर्म और व्यापार मेंs 
महंगाई सबको मार रही हैss
जिंदगी सबकी हार रही हैss
टोकने वाला कोई नहीं, रोकने वाला कोई नहीं।।2।।
ऐसे में थाम कर हाथ तेराss
कदम तेरा बढ़ा रही है।

जीवन ज्योति …………………. रौशनी फैला रही है।।



(इन रचनाओ पर आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए मार्गदर्शक बन सकती है, आप की प्रतिक्रिया के इंतजार में l)


गोकुल कुमार पटेल

Wednesday, 30 April 2014

शोषण चक्र

शोषण चक्र

सृष्टि का कोई  भी जीव जंतु हो  जानवर हो या  फिर इंसान सभी में एक ही  समानता नजर आती है कि हर ताकतवर प्राणी ने कमजोर वर्ग पर राज  किया है, मनुष्य और  जानवर  में फर्क  बस  इतना ही है की  जानवर सिर्फ ताकत के जोर पर राज करता है  और  मनुष्य एक बुद्धिमान प्राणी होने के  कारण ताकत का स्वरूप ताकत के साथ-साथ अमीरी,चालाकी, बेईमानी, धर्म और व्यापार, राजनीति जैसे कृत्यों में तबदील हो जाता है।  इतिहास के  भी पन्नें को पलट कर देखें तो सभी पन्नें चीख- चीखकर एक ही बात की गवाही देते है कि कमजोर वर्गों पर हमेशा से ही राज हुआ है और भविष्य में भी हमेशा ऐसा ही होता रहेगा। राज करने का यह तरीका जब समाज पर हावी हो जाता है तो उसे शोषण के नाम से जाना जाता है या यों कहें की  कमजोर वर्गों पर तानाशाही से या बलपूर्वक हावी होने का दूसरा नाम ही शोषण कहलाता है।

अधिकतर लोग शोषण शब्द का अर्थ नहीं जानते है, फिर भी ये तो सत्य है कि वे समझते जरूर है भले ही शोषण शब्द का जहाँ भी इस्तेमाल होता है,  दिमाग यौन शोषण की तरफ ही इशारा करने लगती है। और आँखों में एक अबला नारी की तस्वीर तैरने लगती है।  पर अगर हम वास्तविकता को देखे तो  कुछ वर्ग विशेष को छोड़कर या यों कहें की शोषित करने वालों को छोड़कर समाज का हर वर्ग शोषण का शिकार नजर आता है। उन कारणों से जनता अच्छी तरह वाकिफ है फिर भी उनकी अंधी भक्ति करने लगती है। पहले भेड़चाल शब्द भेंड़ों के लिये इस्तेमाल किया जाता था क्योकि वे बिना  अच्छे बुरे का भेद किये या सोचे समझे अपना नेतृत्व करने वाला भेड़ का साथ देते हुए उसके पीछे-पीछे दौड़ते रहते है। भले ही उसके साथ उन्हें कुएं में ही कूदना क्योँ न पड़ें।  वे ऐसा कर सकते है क्योकि वे जानवर है और उनकी गणना बुद्धिहीन प्राणियों में होती है।  लेकिन जब यही कृत्य एक समझदार प्राणी करें, मनुष्य करें तो यह विचारणीय हो जाता है। कि कैसे एक बुद्धिमान प्राणी बिना किसी को जाने, बिना किसी को समझे देखा -देखी में कभी राजनेताओं के पीछे झंडे लेकर नारा लगाकर राजनीति को बढ़ावा देते है, कभी बाबाओं के पीछे - पीछे जाकर माला लेकर भगवान को ढूंढने की कोशिश करने लगते है तो कभी व्यापारी का चादर ओढ़ कर समाज को देश को नीलाम करने लगते है । नतीजन जब औद्योगिक विकास होता है तब उस क्षेत्र में रहने वाले लोगों का शोषण होता है, जब राजनीति बढ़ता है तब पुरे देश में भ्रष्टाचार फैलता है और जब- जब धर्म बढ़ता है तब - तब सांप्रदायिकता को बल मिलने के साथ - साथ पाखंड का विकास होता है ये अपने आप में इतने शक्तिशाली है कि पूरा समाज इसके प्रभाव से परेशानियों से घिर सकता है। और जब ये आपस में मिले तो एक नयी परिस्थिति का जन्म होना निश्चित है। क्योकि मेरा यह एक सूत्र है:-
व्यापार + राजनीति = महंगाई,
राजनीति + धर्म = भेदभाव,
धर्म + व्यापार = अन्धविश्वास,


जब व्यापार और राजनीति मिलकर काम करते है तो महंगाई बढ़ता है, जब राजनीति और धर्म मिलकर काम करते है तो भेदभाव फैलता है और जब -जब धर्म और व्यापार मिलकर काम करते है तो अंधविश्वास फ़ैलने लगता है।  इसलिए मेरा सभी लोगों से अपील है कि समाज को शोषित होने से बचाना है तो किसी भी कार्य को करने  से पहले उसके बारे में अच्छी तरह से जान ले।  स्वार्थ सिद्धि के लिये न तो ऐसे किसी औद्योगिक क्षेत्र को पनपने दे जिससे जनता का शोषण हो, न ही किसी ऐसे राजनेता का सहयोग करें जो हमारे देश को नीलाम करने पर उतारू हो जाये और न ही के चक्कर में जाएँ जिससे भगवान का विभाजन हो और नए भगवान का जन्म हो । आज से ही संकल्प करें कि जनता को इस शोषण चक्र के चक्कर से बचाने के लिए और समाज और देश के विकास के लिये हम बिना सोचे समझे और बिना किसी को जाने बगैर ऐसे किसी भी संगठन, राजनेता के साथ ही साथ किसी भी गुरु या बाबाओं का साथ नहीं देंगें।      


(इन रचनाओ पर आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए मार्गदर्शक बन सकती है, आप की प्रतिक्रिया के इंतजार में l)


आपका
गोकुल कुमार पटेल

Wednesday, 19 March 2014

गुलामी

गुलामी


















देखता रह जायेगा तू,
मैं फिर से यहाँ आकर व्यापार करूँगा ।।
त्रुटिपूर्ण थी तब मेरी रणनीति,
टूट गए थे फल, म्यान मेरा खाली था ।
सीखकर,माहिर हो गया हूँ अब तो,
भरकर तरकश,
मैं बस! ब्रम्हास्त्र का बौछार करूँगा ।।
देखता रह जायेगा तू,
मैं फिर से यहाँ आकर व्यापार करूँगा ।।
शह! दिला दी थी मुझे तब,
मेरी ही,
बौखलाहट भरी चाल ने ।
कोशिश बहुत की टुकड़ों में, तोड़ने की,
रोक लिया था पर तब,
राहें मेरी,
बल्लभ, लाल बाल पाल ने ।।
कूटनीति की चाल चल अब,
मैं फिर से चहुंमुखी प्रहार करूँगा,
देखता रह जायेगा तू,
मैं फिर से यहाँ आकर व्यापार करूँगा ।।
लाख तू कोशिश कर,
क्रंदन गले में अटक जायेगा,
राजनीति के ताने- बाने में,
राह से तू भटक जायेगा। 
कंस नहीं!
मैं अब बनकर महाकंस ।
ऐसी चाल चलूँगा,
आ ही नहीं पायेगा, योद्धाओं का वंश ।।
नपुंसक के राज में,
मर्द बन,
मैं फिर से असमत तेरी तार-तार करूँगा ।
देखता रह जायेगा तू,
मैं फिर से यहाँ आकर व्यापार करूँगा ।।
हर तरफ महंगाई, बेरोजगारी होगी,
हर तरफ सिर्फ फाका होगा। 
मन तेरा, मेरा गुलाम होगा,
देशीयता का तू सिर्फ खाका होगा।
रिश्वत और भ्रष्टाचार का बाजार फैलेगा,
मैं फिर से ऐसे काम हजार करूँगा।
देखता रह जायेगा तू,
मैं फिर से यहाँ आकर व्यापार करूँगा ।।



 (इन रचनाओ पर आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए मार्गदर्शक बन सकती है, आप की प्रतिक्रिया के इंतजार में l)

गोकुल कुमार पटेल