Thursday, 2 February 2012

अफवाहें


अफवाहें 
ये अफवाहें कहाँ से आती हैl
ये अफवाहें कहाँ को जाती है ll
ये अफवाहें क्या क्या लाती है l
ये अफवाहें क्या क्या ले जाती है ll
अफवाहें लाना लोग शान समझते है l
बेरोजगारी से अच्छा इसे काम समझते है ll
सर्वब्यापी, निराकार अफवाहें l
मन से टकराती निराधार अफवाहें ll
ग़मों की रानी गमगीन अफवाहें l
दीवानी, फौजदारी सी संगीन अफवाहें ll
ये अफवाहें चारी चुगली से जनी है l
ये अफवाहें विश्वास की कमी और मैं से सनी है ll
ये अफवाहें आँख से मुहं, मुहं से कान तक जाती है l
ये अफवाहें दिल की धड़कन ऐसी, इससे जान तक जाती है ll
ये अफवाहें अकेलापन, उदासी और बेचैनी लाती है l
ये अफवाहें सुख, शांति और चैन ले जाती है ll
ये अफवाहें सांसों को कलुषित कर जाती है l
ये अफवाहें समाज को दूषित कर जाती है ll
ये अफवाहें मानव की जिन्दगानी है l
ये अफवाहें ही शायद युग परिवर्तन की निशानी है ll

(इन रचनाओ पर आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए मार्गदर्शक बन सकती है, आप की प्रतिक्रिया के इंतजार में l)

भगवान


भगवान

दुनियां में सबसे बड़ी उसकी हसती है l
सबके दिलो में भी वो बसती है l
सब हीरे मोती से उसे जड़ते है l
हिन्दू, मुस्लिम, सिक्ख, ईसाई,
उसी के लिए लड़ते है l
जिसका न कोई आकार है ,
न कोई प्रकार है l
वो तो सर्वव्यापी,
निराधार और निराकार है l
उसकी सब जगह,
अलग अलग पहचान है l
पर वो तो एक,
और सिर्फ एक भगवान है l

(इन रचनाओ पर आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए मार्गदर्शक बन सकती है, 
आप की प्रतिक्रिया के इंतजार में l)