Thursday, 2 February 2012

अफवाहें


अफवाहें 
ये अफवाहें कहाँ से आती हैl
ये अफवाहें कहाँ को जाती है ll
ये अफवाहें क्या क्या लाती है l
ये अफवाहें क्या क्या ले जाती है ll
अफवाहें लाना लोग शान समझते है l
बेरोजगारी से अच्छा इसे काम समझते है ll
सर्वब्यापी, निराकार अफवाहें l
मन से टकराती निराधार अफवाहें ll
ग़मों की रानी गमगीन अफवाहें l
दीवानी, फौजदारी सी संगीन अफवाहें ll
ये अफवाहें चारी चुगली से जनी है l
ये अफवाहें विश्वास की कमी और मैं से सनी है ll
ये अफवाहें आँख से मुहं, मुहं से कान तक जाती है l
ये अफवाहें दिल की धड़कन ऐसी, इससे जान तक जाती है ll
ये अफवाहें अकेलापन, उदासी और बेचैनी लाती है l
ये अफवाहें सुख, शांति और चैन ले जाती है ll
ये अफवाहें सांसों को कलुषित कर जाती है l
ये अफवाहें समाज को दूषित कर जाती है ll
ये अफवाहें मानव की जिन्दगानी है l
ये अफवाहें ही शायद युग परिवर्तन की निशानी है ll

(इन रचनाओ पर आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए मार्गदर्शक बन सकती है, आप की प्रतिक्रिया के इंतजार में l)

Post a Comment