Tuesday, 6 December 2011

मन: पटल


मन: पटल

ख़ामोशी लिए,
मन देख रहा है l
पाशों की चाल वही,
सांसो में अटकी चीत्कार वही l
मिश्रित लावों को, फेंक रहा है,
मन देख रहा है l
पथराई सीप वही,
चातक की टीस वही l
तपती देह को सेंक रहा है,
मन देख रहा है l


(इन रचनाओ पर आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए मार्गदर्शक  बन सकती है, 
आप की प्रतिक्रिया के इंतजार में l )
Post a Comment